साहित्य की उन्नति के लिए सभाओं और पुस्तकालयों की अत्यंत आवश्यकता है। - महामहो. पं. सकलनारायण शर्मा।

Find Us On:

English Hindi
Loading

Audios of the Current Issue

राष्ट्रीय गान - जुलाई-अगस्त 2013

राष्ट्रीय गान | Rashtriya Gaan | National Anthem

स्‍वर्गीय कवि रविन्‍द्र नाथ टैगोर द्वारा "जन गण मन" के नाम से प्रख्‍यात शब्‍दों और संगीत की रचना भारत का राष्‍ट्र गान है। इसे इस प्रकार पढ़ा जाए:

जन-गण-मन अधिनायक, जय हे
भारत-भाग्‍य-विधाता,
पंजाब-सिंधु गुजरात-मराठा,
द्रविड़-उत्‍कल बंग,
विन्‍ध्‍य-हिमाचल-यमुना गंगा,
उच्‍छल-जलधि-तरंग,
तव शुभ नामे जागे,
तव शुभ आशिष मांगे,
गाहे तव जय गाथा,
जन-गण-मंगल दायक जय हे
भारत-भाग्‍य-विधाता
जय हे, जय हे, जय हे
जय जय जय जय हे।
माँ - मनीषा श्री की कविता | मातृ-दिवस विशेष - कबीर विशेषांक (मई-जून 2015)

इस कविता की ऑडियो सुनने के लिए कृपया नीचे दिए गए ऑडियो प्लेयर का उपयोग करें।

Test - मई-जून 2017

MP 3 test 1

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

प्रेमचंद कौन थे? 

हिंदी कवि
हिंदी लेखक 
पता नहीं 
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश